About Baker Cyst Disease And Treatment In Hindi - All You Wanna Know In Hindi By Shubham Chauhan

About Baker Cyst Disease And Treatment In Hindi

क्या आपके घुटने के पीछे के भाग में गाठ है ? वहाॅ सूजन जकडन सी भी महसूस होती है ? तो हो सकता है। यह बेकर्स सिस्ट हो। बेकर्स सिस्ट एक ऐसी समस्या है, जिसमें घुटने के पिछले हिस्से में गाठ उभर जाती है। यह गाठ जरुरी नही कि कैंसर वाली ही हो । यह गाठ एक छोटी सी थैलीनुमा होती है, जो गाढे से द्रव्य से भरी होती हैं। गाठ के आकार में फर्क हो सकता है लेकिन आमतौर पर इसमें तेज दर्द महसूस नही होता है। कई बार बेकर्स सिस्ट आर्थराइटिस के कारण भी हो सकता है।
कई बार यह किसी चाट या दुर्घटना की अधिकता के कारण घुटने के पीछे का दर्द नीचे आपकी तक जा सकता है। अधिक सूजन आने के कारण भी सिस्ट फट जाती हैै।


1.
2.
3.
4.
5.

लक्षण-

बेकर्स सिस्ट में किसी खास तरह के लक्षण दिखाई नही देते क्योकि आमतौर पर यह घुटनों में छिपी होती है। यह खास अभार आने पर ही दिखाई देती है, इसलिए जल्दी किसी की नजर में नही आती ।सीधे खड्र होने पर घुटने के पीछे वाले हिस्से में सूजन घुटने के पीछे जकडन या कठोंर महसूस होना इस बीमारी के आम लक्षण है। इस रोग में ज्यादातर मरीज थकान महसूस करते है। थोडी दूर चलने पर ही थक जाते है और जोडो में दर्द महसूस होने लगता है। सूजन के साथ-2 बुखार भी हो सकता है।

कारण-

बेकर्स सिस्ट का कोई सामान्य कारण नही है। यह जोडो में दर्द, गठिय आदि किसी भी बीमारी के कारण हो सकते है।
इसमें घुटनों के पीछे एक अतिरिक्त फ्लूड (द्रव्य) जमा रहता है। बेकर्स सिस्ट भी कई प्रकार के हो सकते है। इसके सबसे आम प्रकार को आॅस्टियोअर्थराइटिस या गठिया कहा जाता है। बच्चों और किशोरों मे बेकर्स सिस्ट ज्यादा देखने को मिलता है। कभी-2 यह आनुवांशिक भी हो सकती है।

ऐसे करें उपचार-

रोजाना व्यायाम करने से भी इस बीमारी को दूर कर सकते है। जितना संभव हो आराम करें ऐसे कार्यो से बचें, जो दर्द बढाने है। बिशेष रुप से वजन उठाने वाले कार्य। आइसपैक थेरेपी इसमे बहुत लाभदायक होती है। हर एक घंटे में 15 मिनट तक सूजन वाली जगह पर बर्फ लगाएं । किसी भी प्रकार की सुजन को कम करने के लिए अपने घुटने को ऊपर उठा कर रखें। घुटनों के नीचे  अथवा बीच में एक तकिया रख कर सोए। वजन नियंत्रित रखें ताकि आपके घुटनों पर ज्यादा जोर न पडे। डाॅक्टर से सलाह ले कि कितना वजन आपके घुटनों के लिए सही है। कोई ऐसा बैडेज अथवा एलास्टिक स्लीप पहनकर घुटने को धीरे-2 दबाएं। ये दोनों वस्तुए लगभग सभी दवाइयों की दुकानों पर मिलती है। यह सूजन को कम कर सकता है और सहारा भी देता है।


1.
2.
3.
4.
5.

डाॅक्टर कहते है-

बेकर्स सिस्ट की पहचान के लिए सबसे पहले अल्ट्रासोनोग्राफी की जरुरत पडती है। वयस्को में ये समस्या गठिया की वजह से हो सकती है। जब भी जोडो या घुटने से संबंधित कोई समस्या हो, तो डाॅक्टर से संपर्क करें। फिजिकल थेरेपी या सर्जरी इलाज का सबसे अच्छा विकल्प हो सकता है। सर्जिकल आॅपरेशन के द्वारा इस बीमारी को ठीक किया जा सकता है। इसके अलावा जोडो के कुछ एक्सरसाइज भी जरुरी है। बच्चों में यह समस्या चोट की वजह से हो सकती है। बच्चों में बेकर्स सिस्ट समय के साथ गायब हो जाता है, लेकिन व्यस्को में ऐसा नही होता ।
About Baker Cyst Disease And Treatment In Hindi About Baker Cyst Disease And Treatment In Hindi Reviewed by Shubham Chauhan on 1:16 pm Rating: 5

कोई टिप्पणी नहीं:

Blogger द्वारा संचालित.