यहां क्लिक करे और Bitcoin कमाये.........

इन बेवसाइट से 100-150 रुपये घर बैठे कमाये, क्लिक करें

डायग्नोस्टिशियन रेडियोलॉजी medical ke kshetra me career kaise banaye

अगस्त 10, 2019
मेडिकल क्षेत्र में अवसर है भरपूर
भारत में अभी भी हेल्थ मार्केट करीब 100  बिलियन डॉलर का है। जिसके 2020  के अंत तक 280 बिलियन डॉलर तक पहुंचने की उम्मीद है............................

जब मेडिकल के क्षेत्र में नौकरी से जुड़े अवसरों की बात आती है, तो डायग्‍नोस्टिक सेक्टर इसमें प्रमुख स्थान रखता है। यह मेडिकल के सबसे बड़े सेक्टरों में से एक है्। अगर आप सफलता की ऊंचाइयों के ख्वाब देख रहे हैं तो यह क्षेत्र आपके लिए उपयुक्त है। यह इंडस्ट्री अस्पतालों, पैथोलॉजी लैब, मेडिकल पर्यटन और मेडिकल से जुड़े अलग-अलग उपकरणों की सेवाओं से संबंधित है। कुछ सालों से डायग्‍नोस्टिक के क्षेत्र में भी तेजी देखी जा रही है। समय के साथ इसे और बेहतर करने पर फोकस किया जा रहा है। ज्यादा से ज्यादा प्राइवेट सेक्टर्स के आने से इस क्षेत्र में आने वाले 5 वर्षों में 25% की भारी वृद्धि होने की उम्मीद है। यह क्षेत्र आपके भविष्य के लक्ष्यों को भी पूरा करने में मदद करेगा।



संभावना से भरा क्षेत्र
इसमें पहला विकल्प पैथोलॉजी की सेवाओं का है। यह एक प्रकार की नैदानिक सेवाएं हैं जो आपको एक डायग्नोस्टिशियन एक इन्वेस्टिगेटर बनने का विकल्प प्रदान करती हैं। दूसरा बेहतर क्षेत्र रेडियोलॉजी का है। इस क्षेत्र में बीमारी की जांच और इलाज इमेजिंग मेडिकल तकनीक के जरिए किया जाता है। रेडियोलॉजिस्ट की बढ़ती डिमांड के चलते यह क्षेत्र एक बेहतर करियर ऑप्शन बन चुका है और किसी भी दूसरे क्षेत्र की तुलना में यह सबसे तेज गति से आगे बढ़ रहा है। भविष्य में इस क्षेत्र के और बढ़ने की उम्मीद है। रेडियोलॉजी टेक्निशियन के पास अल्ट्रासाउंड टेक्निशियन, एक्‍स-रे टेक्निशियन, एमआरआई टेक्निशियन, सीटी टेक्निशियन और मेडिकल प्रोफेशनल के रूप में काम करने जैसे कई विकल्प मौजूद हैं। आज जिस तरह से रेडियोलॉजिस्ट की मांग बढ़ रही है, अस्पतालों, क्‍लीनिकों और फिजीशीयन  ऑफिस में रेडियोलॉजिस्ट की तत्काल जरूरत है भविष्य में रेडियोलॉजी के क्षेत्र में किसी भी क्षेत्र की तुलना में सबसे ज्यादा नौकरियां के होने की उम्मीदें हैं स्मार्ट के रूप में देखा जाता है रेडियोलॉजिकल क्षेत्र के पढ़ने के लिए एक बहुत ही दिलचस्प विषय है इसके तहत आपकी निवास क्षेत्र में ही काम करने का अवसर मिलता है जो लोग नौकरी क्लच बना चुके हैं खासकर एडीएजी के क्षेत्र में उनके लिए जनरल मेडिकल और सर्जिकल अस्पतालों में काम करने के विकल्प खुले हैं इस क्षेत्र में नौकरियों के अवसरों की कोई कमी नहीं है रेडियोलॉजी टेक्निशियन प्राइवेट ऑफिस तत्काल केयर और किस खेल में भी काम कर सकते हैं 

विस्तार इंडियन ब्रांड इक्विटी फाउंडेशन आईवीएफ के अनुसार देश में हेल्प मार्केट करीब 100 बिलीयन डॉलर है और 2020 तक के अंतर 280 बिलियन डालर तक पहुंचने की उम्मीद है डायग्नोस्टिक मैनेजमेंट के क्षेत्र में आने वाले वर्षों में रोजगार में भारी उछाल देखने को मिलेगा

 अनुभव से मिलेगा लाभ इंडस्ट्री पहले से ज्यादा संगठित प्रोफेशनल और बेहतर हो गई है रोजगार के अवसर की बात करें तो क्लीनिक मैनेजमेंट प्रोफेशनल्स की क्लीनिक अस्पतालों एनजीओ आईटी कंपनी जैसे डेल एक्सचेंजर आदि में सॉफ्टवेयर और इमेजिंग उपकरण शामिल करने की जरूरत होती है 1 लीटर के मामले में जिसके पास फैल मैंने होने के कारण कोई अनुभव नहीं होता है उनको टेक्नीशियन के काम पर रखा जाता है और जल्द ही उन्हें अनुभव के साथ नई ऊंचाइयों को छूने के लिए पूरी तरह से तैयार हो जाते हैं योग्य लोगों की है मांग डायग्नोस्टिक सेक्टर को रिसर्च के लिए कुशल स्टाफ और प्रोफेशनल की जरूरत है जो पूरी तरह से कस्टमर पर ध्यान दे सकें परंतु अभी भी इस क्षेत्र में टैलेंट की खासी कमी है आज के युवा टैलेंट को लंबे समय तक बरकरार रखने के लिए क्वालिटी पर ध्यान देते हैं बाजार में नई इंडस्ट्री खोलने से युवा टैलेंट को बेहतर तरीके से सीखने का मौका मिलेगा और समय के साथ भविष्य की इन विशेषज्ञों को तैयार किया जा सकेगा प्रमुख संस्थान ऑल इंडिया इंस्टिट्यूट ऑफ़ मेडिकल साइंसेस न्यू दिल्ली मौलाना आजाद मेडिकल कॉलेज न्यू दिल्ली किंग जॉर्ज मेडिकल यूनिवर्सिटी लखनऊ मद्रास मेडिकल कॉलेज चेन्नई




डायग्नोस्टिशियन रेडियोलॉजी medical ke kshetra me career kaise banaye डायग्नोस्टिशियन रेडियोलॉजी medical ke kshetra me career kaise banaye Reviewed by Shubham Chauhan on अगस्त 10, 2019 Rating: 5

How Does Make Career In Hotel Cook In Hindi- होटल शेफ (जायके) Me Career Kaise Banaye

अगस्त 10, 2019

होटल में काम करने के लिए कैरियर कैसे बनाये?????


 होटल प्रबंधन और आतिथ्‍य उद्योग के विकास में सेब की मांग को बढ़ाया है और साथ ही पर्यटन उद्योग के विकास से इस क्षेत्र में कई संभावनाएं पैदा हुई है……………..

स्पेनिश कहावत है कि मन पर राज करता है। हां. जब-जब आप भूखे होते हैं या कुछ स्वादिष्ट खाद्य पदार्थों के लिए तरसते हैं, तो केवल एक चीज उस समय आपके दिमाग में आती है और वह है भोजन और अधिक भोजन। पहले, लोग अपने पसंदीदा खाद्य पदार्थों का स्वाद लेने के लिए शादी पार्टियों का इंतजार करते थे। लेकिन, आजकल किसी भी दिन वे रेस्तरां में जाकर अपने मनपसंद भोजन का स्वाद ले सकते हैं। खाना पकाने को कुछ साल पहले एक दैनिक काम या गतिविधि के रूप में देखा जाता था, लेकिन आजकल यह चलन बदल गया है। हां, अब  इसे एक कला माना जाता है।

बदला है नजरिया


पहले, शेफ की नौकरी को उच्‍च सम्मान की नौकरी नहीं माना जाता था। लेकिन, अब होटल और रेस्तरां उद्योग के विकास और विस्तार के साथ खाना पकाने में विशेषज्ञता वाले लोगों को बेजोड़ मांग बढ़ने से लोगों के नजरिए में बुनियादी परिवर्तन देखने को मिला है। भारत में होटल प्रबंधन और आतिथ्य उद्योग के विकास के साथ, शेफ की बहुत मांग है। इसके अलावा, ये विशेषज्ञ भारत में अच्छी कमाई कर रहे हैं। आजकल शेफ ग्लैमरस पर्सनैलिटी और मनी चेंजर के रूप में भी विकसित हो रहे हैं। वे समाज में भी सम्मान अर्जित कर रहे हैं।

योग्यता

यदि आप स्टार होटल में नौकरी पाने के इच्छुक हैं, तो यह एक महत्वपूर्ण है कि आपको एक अच्छे संस्थान से होटल प्रबंधन और खानपान प्रौद्योगिकी में डिग्री प्राप्त करनी चाहिए। इस क्षेत्र में डिप्लोमा और सर्टिफिकेट कोर्स भी है। इन पाठ्यक्रमों को लेने के लिए भारत में कई अच्छे संस्थान है।


व्यक्तिगत लक्षण 


करियर के लिहाज से शेफ बनना वास्तव में एक अच्छा निर्णय है, लेकिन आपको यह जांचना होगा कि क्या शेफ के रूप में कार्य करने के लिए आप में कुछ सामान खूबियां है? आपको दूसरों की विभिन्न खाद्य आदतों और संस्कृतियों के बारे में जानकारी होनी चाहिए ताकि आप उनके अनुकूल खाना बनाने में सक्षम हो सकें। अपने ज्ञान को नियमित आधार पर अपडेट करते रहें। साथ ही विभिन्न नए-नए व्‍यंजन को पकाने की कोशिश भी करते रहना चाहिए। अगर आप में नई कुकिंग तकनीकों और तरीकों के बारे में जानकारी रखने की आदत है तो इसमें आपको कोई समस्या नहीं होगी। इसके अतिरिक्त अन्य रसोइयों के साथ एक टीम के रूप में काम करने की क्षमता होनी चाहिए। आपकी ये खूबीयां आगे बढ़ने में मददगार साबित हो सकती हैं।
  


संभावनाएं


हम में से अधिकांश लोग जानते हैं कि महत्‍वाकांक्षा किसी भी सफल करियर की कुंजी है। व्यक्ति को अवसर मिल सकते हैं, लेकिन बात यह है कि सही समय पर सही पहचान करना है। जब आप एक विशेष कार्य में लगे होते हैं, तो आप अपने कौशल, धैर्य और कड़ी मेहनत के साथ उद्देश्य को पाना सुनिश्चित करते हैं। इसकी उम्मीदवार होटल और रेस्तरां के अलावा,आप बार और नाइट क्‍लब, फूड सर्विस सेक्‍टर में भी जॉब पा सकते हैं या आप अपना खुद का फूड सर्विस स्टोर भी खोल सकते हैं।


 प्रमुख संस्थान

इंदिरा गांधी ओपन यूनिवर्सिटी
www.ignou.ac.in
द होटल स्कूल नई दिल्ली
www.thehotelschool.com
लक्ष्य भारती इंस्टीट्यूट ऑफ इंटरनेशनल होटल मैनेजमेंट
www.lbiihm.com
नेशनल काउंसलिंग फॉर होटल मैनेजमेंट एंड कैटरिंग टेक्नोलॉज
www.nchm.nic.in
डीपीएमआई न्यू दिल्ली
www.dpmiindia.com

वेतन 

₹10000 प्रतिमाह मिल सकता है शुरुआती वेतन

जहां तक वेतन का संबंध है, यह आत्मविश्वास, विशेषज्ञता, अनुभव, विशेषज्ञता और व्यक्तिगत कौशल, स्थान  जैसे विभिन्‍न पहलुओं पर निर्भर करता है। एक प्रशिक्षु रसोईया ₹10000 से ₹15000 प्रति माह के बीच कहीं भी कमा सकता है। जब आप लगभग 6 साल का अनुभव प्राप्त कर लेते हैं, तो आप ₹40000 तथा ₹50000 कमा सकते हैं। यहां तक कि, एग्जीक्यूटिव शेफ हर महीने में 100000 से ₹200000 तक कमा रहे हैं। लक्‍जरी और डीलक्‍स होटलों के मामले में,टेक-होम अभी भी अधिक होता है।

How Does Make Career In Hotel Cook In Hindi- होटल शेफ (जायके) Me Career Kaise Banaye How Does Make Career In Hotel Cook In Hindi- होटल शेफ (जायके) Me Career Kaise Banaye Reviewed by Shubham Chauhan on अगस्त 10, 2019 Rating: 5

Apps Se Janiye Kitani Der Kaun Sa Yoga Karana Chahiye??Jankari In HIndi

अगस्त 10, 2019
योग युग हमारी संस्कृति का एक अंग है पूरी दुनिया इस की दीवानी है कुछ दिन बाद ही हम विश्व योग दिवस मनाएंगे, लेकिन योग से रिश्ता अगर ऐसा बना रहे तो ज्यादा बेहतर ऐसी भागदौड़ भरी जिंदगी में आपके लिए एक जो आपकी मदद कर सकते हैं

 Five Minute Yog

 5 मिनट योग एक बहुत ही आसानी App है इसमें योग के अभ्यास के लिए छोटे-छोटे वीडियो दिए गए हैं इसमें डेली रिमाइंडर, टाइमर, अलग-अलग दिन के लिए अलग-अलग योग का भी फीचर है हालांकि ज्यादा वीडियो देखने के लिए आपको सब्सक्रिप्शन भी लेना पड़ सकता है

Down Dog App

इस एप योग को कई चरणों में बांटा गया है, इसके अलावा इसमें व्यायाम के टिप्स भी है। इस एप्प में गूगल फीट सपोर्ट, ऑफलाइन सपोर्ट और वॉइस गाइडेस फीचर भी है इसमें अच्छी म्यूजिक भी आपको योग के दौरान सुनने को मिलेंगे यह एप्प आपको प्ले स्टोर में बिल्कुल मुफ्त मिलेगा

 पाकिट योग ऐप युग के लिए ऐप की बात होती है तो बांके ट्यूब ऐप का नाम जरूर आता है इसमें फोटो सहित योगा सानू को दिखाया गया है इसमें योग प्रशिक्षक में 200 से भी ज्यादा योग के आसनों के बारे में जानकारी दी गई है दिल्ली युग ऐप ऐप में से ज्यादा आसन योग की क्लास योगा शिक्षक के साथ योग करने के तरीकों के अलावा कई तरह के वीडियो देखने को मिलेंगे योग स्टूडियो स्टूडियो सिर्फ योगी बल्कि एक वीडियो है जिनमें 5 से 60 मिनट तक आपका ध्यान करना सीख सकते हैं इसके अलावा अपनी उम्र के हिसाब से सही हो सकते हैं


Apps Se Janiye Kitani Der Kaun Sa Yoga Karana Chahiye??Jankari In HIndi Apps Se Janiye Kitani Der Kaun Sa Yoga Karana Chahiye??Jankari In HIndi Reviewed by Shubham Chauhan on अगस्त 10, 2019 Rating: 5

सेहत का मीटर कितना तय है

अगस्त 10, 2019

सेहत का मीटर कितना तय है उम्र वजन और सेहत के हिसाब से 1 दिन में कितने कदम चलने चाहिए कितनी कैलोरी लेना चाहिए कितनी कैलोरी बर्न करना चाहिए जैसी बातें स्मार्ट बैंड बजाते हैं लेकिन आपको इस पर कितना भरोसा करना चाहिए हर उम्र के लोगों में तेजी से पाप लाल हो रहे इस स्मार्ट बैंड या फिटनेस बैंड और सिर्फ फैशन की चीजें नहीं रही बल्कि भारती दौड़ती जिंदगी में यह आपकी सेहत का ध्यान रखने का सबसे आसान साधन बन गए हैं आप कितना चले कितना चलना चाहिए कितनी कैलोरी बर्न की दिल की धड़कन कब्बड़ी कब कम हुई कितनी नींद ली जैसी कितनी ही बातें आपको एक क्लिक पर पता चल जाता है पर सवाल यह है कि स्मार्ट बंद कर डाटा कितना सही और सटीक होता है

 आसान 7 गणित है सभी साइज और सेब के स्मार्ट बैंड को दो तरह के कैंसर के साथ आते हैं1 किलोमीटर और गैरों इसको इसके अलावा इन दिनों कुछ बैंड में हार्ट रेट सेंसर भी आते हैं जो आपके दिल की धड़कनों को मॉनिटर करके आपकी मोमेंट से फिजिकल कंडीशन पता करते हैं यह आसान सा गणित है अगर आपका दिल दिल धड़क रहा है तो आप ज्यादा मेहनत करने वाला काम कर रहे हैं आप ज्यादा कैलोरी बंद कर रहा है और अगर दिल की धड़कनें सामान है तो आपका सारी क्रम कम है कोलावेरी कंबन हो रही है लेकिन सिर्फ इसी अलगोरिदमा पर भरोसा नहीं कर सकते इन दिनों स्मार्ट बैंड स्क्रीन के साथ भी आते हैं लेकिन इसकी शुरुआत बिना स्क्रीन के बैंड के साथ हुई थी इसमें आंकड़े देखने के लिए आपको फोन कर सहारा लेना पड़ता था लेकिन अब कम कीमत में स्क्रीन वाले बैंड बाजार में है इस वक्त कई लोकल बना भी स्मार्ट बैंड बना रहे हैं इनकी कीमत ₹1000 से भी कम है हालांकि इनकी क्वालिटी को लेकर कुछ कहा नहीं जा सकता लेकिन प्राय करने के लिए लोग इन्हें भी खरीद रहे हैंटेक्निकल एक्सपोर्ट कहते हैं ज्यादातर स्मार्ट में स्टेप अकाउंट बताते हैं और इसी के लिए सही भी हैं लेकिन इन लेकिन इन स्मार्ट बैंड स्केल डाटा पर पूरी तरह भरोसा नहीं किया जा सकता यह किसी भी तरह के मेडिकल बैकग्राउंड के साथ नहीं आते इसलिए इनकी डाटा को डॉक्टर के पास जाना बेवकूफी होगी स्टेप कौन तब तक ठीक है लेकिन दिल से संबंधित डाटा के लिए डॉक्टर पर निर्भर रहना ही बेहतर होगा 3 दिन बहुत सस्ते बैंड बाजार में उपलब्ध हैं इनके डाटा की एक्यूरेसी उतनी अच्छी नहीं है अगर फिटनेस बैंड खरीदना चाहते हैं तो बेहतर होगा कि यूजर फीडबैक पर भरोसा करें कई बार देखने में अच्छी भैंस काम अच्छा नहीं करती इसलिए खरीदने से पहले तो जरूर पढ़ें डिस्प्ले या धोखा दे सकती हैं
 क्या कहते हैं इस्मार्ट बैंक लोग लोगों में बढ़ते स्मार्ट बैंड के क्रेज को मुख्य भोजन इसका फिटनेस ट्रैकर वर्कआउट और एक्सरसाइज के आदि और शौकीन लोगों के लिए स्मार्ट वॉच अपनी फिटनेस पर नजर रखती का सबसे आसान तरीका है वह करते हुए स्टील का चलन कुछ सालों से काफी तेज हुआ है उम्र वजन और सेहत के हिसाब से 1 दिन में कितने कदम चलने चाहिए कितनी कैलोरी लेनी चाहिए कितनी कैलोरी बर्न करनी चाहिए आदि जैसी बातें स्मार्ट बताते हैं अपने स्मार्टफोन करने के बाद आप पूरा डाटा लंबे समय तक से भी कर सकते हैं यानी खुद ही इस बात पर नजर रख सकते हैं कि अपनी सेहत में कितना सुधार आया है इसके अलावा स्मार्ट बैंड और भी कई काम करते हैं जैसे नोटिफिकेशन स्मार्टफोन से लिंक करने के बाद फोन के सभी नोटिफिकेशन स्मार्ट बैंड पर आते हैं इससे आपको बार-बार फोन निकाल कर देखने की जरूरत नहीं होती है जिस तरह घड़ी में समय देखते हैं उसी तरह आप नोटिफिकेशन भी देख सकते हैं समय के साथ-साथ यह फीचर और बेहतर हो रहा है

सेहत का मीटर कितना तय है सेहत का मीटर कितना तय है Reviewed by Shubham Chauhan on अगस्त 10, 2019 Rating: 5

वेडिंग प्लानर बोलता है सिर्फ काम

अगस्त 10, 2019
वेडिंग प्लानर बोलता है सिर्फ काम कस्टमर वेडिंग प्लानर को पैसे देकर अपनी हर समस्या का समाधान चाहता है मैंने मैनेज करने से लेकर हनीमून तक का सारा प्रबंध इन्हीं पर होता है बेहद सलीके सजा हुई मंडप घरों के मुंडे पर बिजली के टिमटिमाते बल्ब दरवाजों पर सुगंधित फूलों का गुच्छा मंडप में घुसने से पहले आपका स्वागत करते सजे धजे द्वारपालों को देखकर शादी के ऐसे शाही अंदाज को खुद पूरा करना तो पूरा वास्तव में एक सपना ही लगता है पर इन दिनों आपकी सोच से कहीं ज्यादा इसे समूह बनाना संभव है जिसने मदद करते हैं ऐसी प्रीत क्रिएटिव और मेहनती लोगों की टीम जिन्हें वेडिंग प्लानर कहा जाता है

 वेडिंग प्लानर और इन्वेंट मैनेजर का काम काफी कुछ मिलता-जुलता है एक का कार्यक्षेत्र फैला हुआ है तो दूसरे का सीमित वेडिंग प्लानर का काम सगाई और शादी की तैयारी जैसे खास मौके के साथ शुरू होता है जिसमें आमंत्रित भेजने थीम कैटरिंग डेकोरेशन मनोरंजन और पंडित जी का इंतजाम करना आदि शामिल है वेडिंग प्लानर की बढ़ती मांग के कारण लाखों-करोड़ों तक के कारोबार में पहुंच चुके हैं आज के समय में शादी समारोह के मौके पर खर्च करने में कोताही नहीं बरती जा तेरे जा रही है क्योंकि यह सीधे चौक और हैसियत से जुड़ा मामला बन जाता है
आवश्यक योग्यता वेडिंग प्लानर के क्षेत्र में किसी विशेष कोर्स की जरूरत तो नहीं पड़ती फिर भी अधिकांश कंपनियां इन्वेंट मैनेजमेंट मार्केटिंग इंटीरियर डिजाइनिंग एवं मास कम्युनिकेशन के लोग लोगों को तरजीह देती है यदि आप बिजनेस से जुड़ी बारीकियां इंडियन वेडिंग कल्चर अपनी संस्कृति के प्रति लगाव रखते हैं तो बिना पाठ्यक्रम के भी काम मिल सकता है बस काम के विभिन्न आयामों की जानकारी होनी चाहिए
 डिग्री से ज्यादा जरूरत अभिरुचि इस क्षेत्र में सिर्फ काम बोलता है कई ऐसे वेडिंग प्लानर है जो बिना कोर्स किए अपनी लगन और अभिरुचि के बल पर शादी से जुड़ी हर परेशानी को पलक झपकते ही हल कर देते हैं कई प्राइवेट और सरकारी संस्थान हैं जो अपने यहां इसका पाठ्यक्रम करवाते हैं इन मैनेजमेंट एवं हॉस्पिटैलिटी संस्थान शॉट कोर्स एवं डिप्लोमा भी करवाते हैं आप चाहे तो इसे पार्ट टाइम के रूप में भी कर सकते हैं

 मुंबई यूनिवर्सिटी मुंबई आई एम दिल्ली नेशनल अकैडमी आफ मैनेजमेंट एंड डेवलपमेंट दिल्ली आरएमसी न्यू दिल्ली

 शुरुआत में पहचान बनाना है पैसे देकर अपनी हर समस्या का समाधान चाहता है मैंने मैनेज करने से लेकर हनीमून तक का सारा प्रबंध इन्हीं चीजों पर नजर रखते हुए उन्हें प्रायोगिक रूप से इस्तेमाल कर और टाइम मैनेजमेंट का ध्यान रखकर आप कस्टमर को संतुष्ट कर सकते हैं शुरुआती दौर में पहचान बनाने में दिक्कत आती है साथ विशेष मायने रखते हैं शुरुआती दौर में किसी वेडिंग प्लैनिंग या इन्वेंट मैनेजमेंट कंपनी से जुड़ना अच्छा होगा बाद में चाहे तो खुद का कारोबार भी शुरू कर सकते हैं

कमाई भी है खूब शुरू में हर प्लानर को 12:00 से 15:00 हजार रुपए प्रति इन्वेंट के हिसाब से मिल जाते हैं लेकिन जैसे-जैसे अनुभव भरता है या राशि 50000 या लाखों तक पहुंच जाती है प्रतिमाह मिलने वाले वेतन की बात करें तो आप भी 15 से ₹20000 आसानी से कमाए जा सकते हैं आपके नजरिए से बात की जाए तो इनमें बहुत से फायदे ज्यादा है और मुस्कान कम अपने खुद का काम शुरू किया हो या कहीं पर नौकरी की हो दोनों के सपनों में नए लोगों से मिलना होता है यदि आपने स्वयं का वाइंडिंग नानी काम शुरू किया तो शुरुआत में आपको थोड़ा पैसा लगाना पड़ सकता है क्योंकि ज्यादातर कस्टमर विवाह समारोह के पहले टोकन अमाउंट देते हैं और शेष रकम शादी के बाद देते हैंशादी विवाह के कार्य जीवन भर पीढ़ी दर पीढ़ी चलने वाले काम होते हैं बढ़ती जनसंख्या और लोगों के पास समय के अभाव ने वेडिंग प्लानर के काम को चंद्रमुखी संभावनाओं से भर दिया है

वेडिंग प्लानर बोलता है सिर्फ काम वेडिंग प्लानर बोलता है सिर्फ काम Reviewed by Shubham Chauhan on अगस्त 10, 2019 Rating: 5

पढाई के साथ-साथ, कमाई भी कैसे करें जानकारी In Hindi

अगस्त 09, 2019

मार्केट में स्किल्ड कोर्सेज को तरजीह दी जाने लगी है, जिसमें इंटर्नशिप से कमाई हो और कोर्स करने के बाद नौकरी भी मिल जाए………………

पहले पढाई फिर कमाई का दौर अब नही रहा। आज का युवा पढाई के साथ-साथ कमाई भी करना चाहता है। इसके पीछे की सोच चाहे जो भी हो युवा यह समझ चुका है कि पहले वर्षों तक पढाई करना फिर नौकरी के लिए कोशिश करना समय खराब करना ही है। इस‍ीलिए वह अब इस तरह की पढाई को तवज्‍जो देने लगा है, जिसमें पढाई और कमाई साथ-साथ होती रहे। सही भी है, क्‍योकिं जहां बीटेक,  बीसीए और एमबीए करके लोग नौकरी के लिए दर-दर भटक रहे है,  वहां आप टेक्‍नोलॉजी का सहारा लेकर अपनी मंजिल तेजी से हासिल कर सकते है। राष्‍ट्रीय- अन्‍तर्राष्‍ट्रीय कंपनियां भी इस काम में युवाओ की सहायता कर रही है।

 दरअसल, कंपनियों को आज स्किल्‍ड व दक्ष युवाओं की जरूरत है। कंपनियां चाहती हैं कि उन्हें ऐसे एम्पलाई मिले, जो उनकी वर्क कल्चर और काम से भली-भांति परिचित हो। उन्हें एम्पलाई रखने के बाद काम सिखाने में समय बेकार ना करना पड़े। यही वजह है कि आज मार्केट में ऐसे स्किल्‍ड कोर्सेज को तरजीह देने दी जाने लगी है, इसमें कोर्स के साथ-साथ इंटर्नशिप के रूप में भी कमाई हो और कोर्स के बाद तुरंत नौकरी भी हासिल हो जाए।

क्या है स्टोरेज एरिया नेटवर्क  (storage area network (SAN)
आज स्टोरेज एरिया नेटवर्क या डाटा फॉर्मि‍गं डिजास्टर मैनेजमेंट का जमाना है। गूगल एप्पल और आईबीएम (International Business Machines) जैसी कंपनियों में सैन मशीनें काम करती हैं ताकि उनके डाटा और आईटी सिस्‍टम सही तरीके से मैनेज हो। इन मशीनों से ही क्लाउड का जन्म हुआ। क्लाउड एक प्रोसेस है, जहां सॉफ्टवेयर के साथ डाटा कंट्रोल और मैनेज किया जाता है। इन मशीनों के बिना क्लाउडेड संभव नहीं है। ये मशीनें काफी महंगी होती है, इसलिए कोर्स करवाने वाले हर संस्थान के पास उपलब्ध नहीं होती, जिससे प्रैक्टिकल जानकारी नहीं हो पाती।

जाने कोर्स के बारे में....

 क्लाउड कंप्यूटिंग, सैन नेटवर्किंग और रोबोटिक्स जैसे कोर्स आजकल युवाओं में खास लोकप्रिय हो रहे हैं। सैन नेटवर्किंग की डिमांड ज्यादा है। यह कोर्स अलग-अलग संस्थानों में 18 महीने से लेकर 2 साल तक के उपलब्ध है। कोर्स के शुरुआती 8 महीने तक थ्योरी और प्रैक्टिकल करवाए जाते हैं। इसके बाद संबंधित कंपनियों में इंटर्नशिप करवाई जाती है। लेकिन देश में बहुत कम संस्‍थान है जहां सैन मशीन है। लेकिन एसेट में इस कोर्स में बेसिक रोबोटिक्स की ट्रेनिंग और इस पर एडवांस कोर्स कर सकते है।

प्रमुख संस्थान जहां से आप पढाई कर सकते है...........


जामिया हमदर्द विश्वविद्यालय, नई दिल्ली

इंदिरा गांधी नेशनल ओपन यूनिवर्सिटी
एसेट ट्रेनिंग एंड रिसर्च इंस्टीट्यूट, नोएडा

साइबरबिट, नई दिल्ली
www.cyberbit.com


 आवश्यकता है योग्यताएं
यह कुछ 12वीं पास या ग्रेजुएशन/ बी.टेक/ बीएड के छात्र कर सकते हैं। 12वीं में आपके पास कोई भी विषय हो, इससे कोई फर्क नहीं पड़ता, लेकिन 12वीं के छात्रों को 1 से 2 माह का फाउंडेशन कोर्स कराया जाता है, जिसमें वे टेक्नोलॉजी से रूबरू होते हैं और फिर आगे की पढ़ाई करते हैं। बीटेक या बीएड व कंप्यूटर हार्डवेयर, नेटवर्किंग के छात्र भी प्रैक्टिकल ट्रेनिंग कर सकते हैं, ताकि वे कंपनी की मांग के अनुसार बन सके।


संभावनाएं
युवाओं के लिए बैंक, रेलवे, डिफेंस और मल्टीनेशनल कंपनी में काफी संभावना है।

वेतन

  • शुरूआती सैलरी 20-25 हजार रूपये प्रतिमाह मिल सकता है। 
  •  कोर्स करने के दौरान इंटर्नशिप के रूप में युवाओं को 10  से 20 रुपए तक की कमाई हो सकती है।
  • साथ ही कोर्स करने के बाद इन कंपनियों में 20 से 25 हजार रुपए वेतन तक की नौकरी हासिल कर सकते हैं।
  • जो काम की गुणवत्ता के साथ बढ़ते बढ़ते ₹100000 तक भी पहुंच सकती है।


 
पढाई के साथ-साथ, कमाई भी कैसे करें जानकारी In Hindi पढाई के साथ-साथ, कमाई भी कैसे करें जानकारी In Hindi Reviewed by Shubham Chauhan on अगस्त 09, 2019 Rating: 5

इन बेवसाइट से 100-150 रुपये घर बैठे कमाये, क्लिक करें

Blogger द्वारा संचालित.